Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana:- ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का आरंभ किया जाता है। सरकार द्वारा देश के नागरिकों को भी ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में अपना सहयोग देने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा भी ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करने के लिए एक नई योजना का शुभारंभ किया गया है। जिसका नाम उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों का इन्फ्राट्रक्चरल विकास सरकार एवं नागरिकों के सहयोग से किया जाएगा। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे इस योजना का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, कार्यान्वयन प्रक्रिया आदि।


Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2023

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा Mathrubhumi Yojana का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत परियोजना में होने वाली कुल लागत का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं शेष 50% इच्छुक नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा। जिसके बदले में परियोजना का नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा अनुसार रखा जाएगा। इस योजना के माध्यम से संबंधित व्यक्ति योजना पर होने वाला आधा खर्च वाहन करके परियोजना का पूरा श्रेय प्राप्त कर सकता है। उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की औपचारिक शुरुआत के लिए ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग को कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिए गए हैं। यह योजना को आरंभ करने की घोषणा 15 सितंबर 2021 को की गई है।

27th August Update:- मातृभूमि योजना की शुरुआत इसी सप्ताह से गांव, कस्बे में विकास कार्य करवा लगवा सकेंगे अपना शिलापट

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा जून में लॉन्च की गई मातृभूमि योजना को अगले सप्ताह शुरू किया जा रहा है। पंचायती राज विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह द्वारा बताया गया है कि इस योजना के प्रबंध संचालक के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट का गठन हो गया है और अब इस योजना का संचालन शुरू हो जाएगा। दरअसल इस योजना की देखरेख, प्रबंधन व संचालन के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट (PMU) का गठन नहीं हो पाया था जिसकी वजह से डेढ़ महीने पहले मुख्यमंत्री द्वारा लांच की गई है यह योजना अब तक शुरू नहीं हो सकी थी। लेकिन अब इस योजना का संचालन शीघ्र ही शुरू हो जाएगा।

इस योजना के तहत कोई भी व्यक्ति या निजी संस्था अपनी मातृभूमि से जुड़कर अपने गांव के विकास कार्यों में योगदान दे सकते हैं। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद दानकर्ता या उनके पूर्वजों का नाम शिलापट लगवाया जा सकेगा। इसके अलावा दानकर्ता को उसके द्वारा लगाई गई लागत पर आयकर की छूट और प्रवासी भारतीयों को एफसीआरए के तहत भी छूट दी जाएगी। 

02nd June Update:- मातृभूमि योजना शहरी क्षेत्र में भी होगी लागू

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का शुभारंभ किया। और कहा कि मां और जन्म भूमि स्वर्ग से बढ़कर होती है जिसकी कोई तुलना नहीं की जा सकती है। इसलिए मातृभूमि योजना से जुड़ने का सबको सौभाग्य मिलना चाहिए। अभी इस योजना को हमारी सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में लागू किया है हम शहरी क्षेत्र में भी मातृभूमि योजना को जल्द लागू करेंगे। जिससे दो तरह से लाभ होगा एक तो व्यक्ति अपनी जड़ों के साथ जुड़ सकेगा। दूसरा अपनी मातृभूमि के लिए कुछ कर सकेगा। सीएम ने कहा कि मातृभूमि योजना के लिए पंचायती राज विभाग एक ऐसा मैनेजमेंट विकसित करें जिसके माध्यम से मातृभूमि के लिए कुछ करने की सोच रखने हेतु पैसा देने वाले लोगों को उसकी एक एक पाई का हिस्सा दिया जा सके।

सरकार की ओर से इस योजना में 60 फ़ीसदी पैसा अपनी मातृभूमि के लिए कुछ करने की सोच रखने वाला व्यक्ति देगा और 40 फ़ीसदी पैसा एवं जमीन राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी। सीएम योगी ने कहा कि मनुष्य ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति है इसलिए मनुष्य के मन में अपनी मातृभूमि के आदर का भाव रहता है। हर व्यक्ति को अपनी मातृभूमि से लगाव होता है। आवश्यकता है तो बस उसे जोड़ने की ताकि उसके मन में विश्वास पैदा हो सके। 

Details Of UP Mathrubhumi Yojana 2023

योजना का नामउत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना
किसने आरंभ कीउत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थीउत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्यग्रामीण क्षेत्रों का विकास करना
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
साल2023
राज्यउत्तर प्रदेश
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की घोषणा

इस योजना की घोषणा मुख्यमंत्री जी के द्वारा सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग से 15 सितंबर 2021 को एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्यमंत्री जी द्वारा इस योजना को आरंभ करने की घोषणा की गई। इस कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई है कि सरकार गांवों के सामाजिक विकास के लिए लगातार कार्यरत है। उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना इसी बात को ध्यान में रखते हुए आरंभ की गई है। इस योजना के माध्यम से गांवों में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनवाड़ी, पुस्तकालय, स्टेडियम, व्यामशाला, ओपन जिम, पशु नस्ल सुधार केंद्र, फायर सर्विस स्टेशन आदि की स्थापना की जा सकेगी। इसके अलावा स्मार्ट विलेज का निर्माण करने के लिए सीसीटीवी लगवाने, सोलर लाइट, सीवरेज के लिए एसटीपी प्लांट लगवाने में नागरिकों की भागीदारी होगी।

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana का उद्देश्य

Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2023 का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करना है। इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी। इन परियोजनाओं का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं 50% खर्च नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा। इसके बदले में परियोजना का नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा के अनुसार रखा जाएगा। इस योजना के माध्यम से नागरिक विकास कार्यों में वित्त सहायता प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित होंगे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना गांवों का विकास करने में भी कारगर साबित होगी।

UP Mathrubhumi Yojana 2023 के लाभ तथा विशेषताएं

  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का शुभारंभ किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से गांवों में होने वाले अवस्थापना विकास के विभिन्न कार्यों में नागरिकों को सीधे हिस्सेदारी प्रदान की जाएगी।
  • परियोजना पर होने वाला कुल लागत का 50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा एवं शेष 50% खर्च नागरिक की ओर से प्रदान किया जाएगा।
  • जिसके बदले में परियोजना का नाम सहयोगी व्यक्ति की इच्छा अनुसार रखा जाएगा।
  • जिससे कि संबंधित व्यक्ति योजना पर होने वाला आधा खर्च वाहन करके परियोजना का पूरा श्रेय प्राप्त कर सकता है।
  • इस योजना की औपचारिक शुरुआत के लिए ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग को कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश भी सरकार द्वारा प्रदान कर दिए गए हैं।
  • इस योजना को आरंभ करने की घोषणा 15 सितंबर 2021 को की गई है।
  • मुख्यमंत्री जी ने सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग पर एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया था।
  • इस कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई कि सरकार गांवों में सामाजिक विकास के लिए लगातार कार्यरत है।
  • इस योजना के माध्यम से गांवों में स्वास्थ्य केंद्र, आंगनवाड़ी, पुस्तकालय, स्टेडियम, व्यामशाला, ओपन जिम, पशु नस्ल सुधार केंद्र, फायर सर्विस स्टेशन आदि की स्थापना की जा सकेगी।
  • इसके अलावा सीसीटीवी लगवाना, सोलर लाइट, सीवरेज के लिए एसटीपी प्लांट लगवाने में भी नागरिकों की भागीदारी होगी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना की पात्रता एवं महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय का प्रमाण
  • आयु का प्रमाण
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अभी केवल उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना को आरंभ करने की घोषणा की गई है। जल्द इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी। जैसे ही सरकार इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित कोई भी जानकारी प्रदान करती है या फिर सरकार द्वारा कोई भी आधिकारिक वेबसाइट लांच की जाती है तो हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। तो दोस्तों यदि आप Uttar Pradesh Mathrubhumi Yojana 2023 के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख से जुड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *